BARCELONA PROTESTS: सैलानी बने सिरदर्द! पर्यटन के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे स्पेन के लोग, जानिए क्या है कारण

स्पेन की राजधानी बारसिलोना में स्थानीय लोग अपने शहर आने वाले सैलानियों से खुश नहीं हैं. सोशल मीडिया पर वायरल वीडियोज में देखा जा सकता है कि स्थानीय लोग शहर में बढ़ते टूरिज्म का विरोध कर रहे हैं. वे अपना शहर देखने आए सैलानियों को पानी की पिचकारियों से भिगोकर वापस लौटने के लिए कह रहे हैं. लेकिन आखिरी बारसिलोना के लोग टूरिज्म का इतना विरोध क्यों कर रहे हैं? जो चीज उनकी अर्थव्यवस्था के लिए मददगार है वह आखिर इन लोगों का सिरदर्द कैसे बन गई? 

बारसिलोना में प्रोटेस्ट क्यों?

सोशल मीडिया पर मौजूद एक वीडियो में देखा जा सकता है कि जब भिगा हुआ एक सैलानी शायद अपने होटल की ओर लौट रहा है तो वहां मौजूद प्रोटेस्टर 'टूरिस्ट गो होम' के नारे लगा रहे हैं. स्पैनिश लोग रेस्तरां और होटलों पर लाल टेप लगाकर पर्यटकों को वहां जाने से रोक रहे हैं. इस प्रोटेस्ट का असली कारण एक प्रदर्शनकारी के बोर्ड पर लिखा है; टूरिज्म किल्स द सिटी, यानी पर्यटन (इस) शहर की हत्या कर रहा है. 

पुलिस के आंकड़ों के अनुसार, ये दृश्य एक व्यापक विरोध का हिस्सा हैं. टाइम की एक रिपोर्ट में पुलिस के हवाले से कहा गया कि करीब 2,800 लोगों ने बारसिलोना में पर्यटन को सीमित करने की मांग की है. हालांकि टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, प्रोटेस्ट में भाग लेने वालों की संख्या 15,000 से ज्यादा हो सकती है. बारसिलोना के लोगों का कहना है कि उनके शहर में 'अत्यधिक टूरिज्म' के कारण उनका जीवन और शहर प्रभावित हो रहा है. 

बारसिलोना की आमदनी अठन्नी, खर्चा रुपैया

टाइम की रिपोर्ट के अनुसार, बारसिलोना पर्यटन से हर साल 9.5 करोड़ पाउंड कमाता है लेकिन इससे जुड़े कई खर्चे भी होते हैं. पर्यटन के कारण यह शहर हर साल साफ-सफाई, सुरक्षा और परिवहन में 14.2 करोड़ रुपए खर्च करता है. 

बारसिलोना के सोशलिस्ट मेयर जैम कोलबोनी ने हाल ही में घोषणा की है कि पांच साल के अंदर वह शहर में 'एयर बीएनबी' जैसे होटलों को खत्म कर देंगे. यानी वे होटल जो दरअसल घर हैं लेकिन पर्यटकों को एकाध कमरा किराए पर देते हैं. 

उन्होंने दावा किया कि उनकी नई नीति ऐसी 10,000 इकाइयों को खत्म कर देगी. कोलबोनी ने कहा कि टूरिस्ट टैक्स सरचार्ज 3.25 पाउंड से बढ़ाकर चार पाउंड कर दिया जाएगा. पर्यटन से होने वाली थोड़ी कमाई को स्थानीय परियोजनाओं में खर्च किया जाएगा. 

स्पेन में कई जगह पर हो रहे प्रदर्शन 

राष्ट्रीय सांख्यिकी संस्थान के अनुसार, पूरे 2023 में स्पेन में लगभग 8.51 करोड़ अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक आए. इनमें से 1.56 करोड़ खास तौर पर बारसिलोना घूमने देश आए. लेकिन स्पेन की राजधानी एकमात्र जगह नहीं है जहां इस तरह के प्रोटेस्ट हो रहे हैं. 

अप्रैल में, स्पेन के एक स्वायत्त समुदाय, कैनरी द्वीप समूह में पर्यटन के खिलाफ सबसे बड़े प्रदर्शन में हजारों लोगों ने भाग लिया. इस प्रोटेस्ट का समर्थन ग्रीनपीस  (Green Peace), डब्ल्यूडब्ल्यूएफ (World Wildlife Fund) और फ्रेंड्स ऑफ द अर्थ सहित कई पर्यावरण समूहों ने किया. 

मई में बढ़ते पर्यटन के कारण किफायती आवास की कमी के विरोध में स्पेन के मैलोर्का द्वीप पर लगभग 10,000 लोगों ने इसी तरह के प्रदर्शनों में भाग लिया. पिछले महीने भी करीब 15000 लोग स्पेन की एक लोकप्रिय हॉलिडे डेस्टिनेशन मलागा में अत्यधिक पर्यटकों की उपस्थिति के कारण प्रोटेस्ट करते नजर आए. 

सिर्फ यही नहीं, नीदरलैंड्स की राजधानी एम्सटरडैम में भी पिछले साल स्थानीय लोगों ने ब्रिटेन के युवा पुरुष पर्यटकों के उजड्ड बर्ताव से तंग आकर 'दूर रहो' (Stay Away) नाम से एक विज्ञापन कैंपेन चलाया था. 

क्या कर सकती हैं सरकारें?

बारसिलोना के मेयर कोलबोनी की तरह ही अन्य सरकारें जनता की जरूरतों को समझते हुए पर्यटन को थोड़ा मुश्किल बना सकती हैं. पर्यटन के खर्च को बढ़ाया जा सकता है. साथ ही 'शॉर्ट टर्म रेंटल्स' की नीति को खत्म किया जा सकता है. शॉर्ट-टर्म रेंटल्स यानी ऐसे घर जो कम समय के लिए सस्ते दामों में किराए पर उठाए जा सकते हैं. ये होटलों से सस्ते होते हैं इसलिए पर्यटक आमतौर पर इन्हें पसंद करते हैं. 

एयर डीएनए नाम की एक सूचना सेवा कंपनी के अनुसार, स्पेन में इस समय करीब चार लाख शॉर्ट-टर्म रेंटल मौजूद हैं. स्पेन की सरकार फिलहाल इन पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रही है. 

ये भी पढ़ें

2024-07-10T17:37:41Z dg43tfdfdgfd