बेटे को तेंदुए के जबड़े से जिंदा छीन लाई एक मां, ममता को प्रणाम कीजिये...

अभी ज़िंदा है मां मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा, मैं घर से जब निकलता हूं दुआ भी साथ चलती है... शायर मुनव्वर राना की ये लाइनें इस बच्चे पर सटीक बैठती हैं, जिसकी जि...

Source: