मछली के साथ मछुआरों का बीमा हो : ऋषिकेश

मछली उत्पादन में मछुआरा समाज प्राचीन काल से लगा हुआ है, लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब है। ऐसे में सरकार को आगे आने की जरूरत है। सरकार की ओर से मछली और मछुआरों का बीमा कराया जाए। यह बातें बिहार राज्य मत्स्यजीवी सहकारी संघ (कॉफ्फेड) के प्रबंध निदेशक ऋषिकेश कश्यप ने मछुआरा दिवस पर बुधवार को संघ कार्यालय मीन भवन में आयोजित कार्यक्रम में कही।

उन्होंने कहा कि मछुआरा समाज के हितों की रक्षा के लिए कॉफ्फेड संकल्पित है। वर्तमान में उनकी आर्थिक स्थिति चिंता का विषय है। राज्य का उत्तरी भाग पूरी तरह से बाढ़ प्रभावित है। अब तो दक्षिण बिहार के कुछ जिलों में बाढ़ का कहर देखा जा रहा है। इससे करोड़ों रुपये की मछलियां नदियों की धारा में बह जाती है, जिससे मछुआरे को आर्थिक रूप से काफी नुकसान होता है। इसके अलावा नदियों के किनारे रहने वाले गरीब मछुआरों की झोपड़ी भी बाढ़ की धारा में बह जाती है। ऐसे में सरकार गरीब मछुआरों के आर्थिक हितों की रक्षा के लिए बीमा की व्यवस्था करें, ताकि किसी भी आपदा की स्थिति में उन्हें मदद की जा सके। मौके पर संघ के अध्यक्ष प्रयाग सहनी, मदन कुमार निषाद, ब्रजेन्द्रनाथ सिन्हा, लालबाबू सहनी निदेशकगण, रघुनाथ मुखिया, मो. मनौवर अली, प्रमोद कुमार शामिल थे।

2024-07-10T14:54:04Z dg43tfdfdgfd