बिहार : लेडी इंस्पेक्टर की सड़क हादसे में मौत के मामले में 7 लोगों के खिलाफ FIR

गोपालगंज. नेशनल हाइवे-27 पर मधुबनी मोड़ के पास सड़क हादसे में लेडी सब इंस्पेक्टर सतिभा कुमारी और उनके ड्राइवर मंजय कुमार की मौत के मामले में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर ली है. सिधवलिया थाने में पुलिस अवर निरीक्षक नवीन कुमार ने सात लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया है, जिसमें एनएचएआइ के प्रबंधक, एनएच के इंजीनियर, कांट्रेक्टर, दुर्घटनाग्रस्त ट्रक के मालिक सरोज कुमार यादव, ट्रांसपोर्टर प्रशांत कुमार सिंह, ट्रक ड्राइवर अर्जुन तथा क्लीनर नामजद किया गया है. ट्रक मालिक सरोज कुमार यादव को पुलिस ने जेल भेज दिया है, बाकी अभियुक्त फरार हैं. पुलिस की जांच में एनएच पर गड्ढों की वजह से हादसा होने की बात सामने आई है. पुलिस ने अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी तेज कर दी है.

पुलिस की रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके पहले लोकसभा चुनाव की ड्यूटी में जा रही वाहन बरहिमा मोड़ के पास एनएच-27 पर गड्ढा होने की वजह से दुर्घटना की शिकार हो गया था, जिसमें चार पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी, जबकि दर्जनों पुलिसकर्मी जख्मी हो गए थे. दोनों हादसों में एनएचएआइ को जिम्मेदार ठहराया गया है. गड्ढों की मरम्मत हो जाती तो हादसा नहीं होता और पुलिसकर्मियों के साथ आम लोगों की जान नहीं जाती. पुलिस ने माना कि एनएच-27 पर गड्ढों की मरम्मती नहीं होने, आवश्यकता अनुसान लाइट की कमी, साइन बोर्ड की कमी, अवैध कट बंद नहीं होने, एनएच की मरम्मत नहीं होने, रख-रखाव नहीं किए जाने की वजह से हादसे हो रहे हैं. एसपी स्वर्ण प्रभात ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

चार जुलाई को हुई लेडी इंस्पेक्टर और ड्राइवर की मौत

चार जुलाई को सिधवलिया थाने के मधुबनी मोड़ के पास दर्दनाक हादसा हुआ था. हादसे में सिधवलिया थाने से कोर्ट में गवाही देने कार से जा रही महिला हेल्प डेस्क की प्रभारी लेडी सब इंस्पेक्टर सतिभा कुमारी और डाइवर मंजय कुमार की मौत हो गई थी. सीमेंट लदा ट्रक कार पर पलट गया था और शाम में सीमेंट हटाने के दौरान कार दिखी. दोनों को बेहोशी हालत में अस्पताल में लाया गया, जहां डॉक्टरों की टीम ने दोनों को मृत घोषित कर दिया था. ट्रक पर लोड सीमेंट औरंगाबाद से मीरगंज के लिए जा रही थी.

28 अप्रैल को चार जवानों की हादसे में हुई मौत

बीते 28 जुलाई को लोकसभा चुनाव की ड्यूटी में पुलिस लाइन से सुपौल जा रही जवानों से भरी बस में कंटेनर ने टक्कर मार दी. सिधवलिया थाने के बरहिमा मोड़ के पास एनएच-27 पर गड्ढों की वजह से हादसा हुआ. हादसे में चार जवानों की दर्दनाक मौत हो गई थी, जबकि दर्जनों जवान जख्मी हो गये थे. हादसे में चालक अशोक उरांव, पवन महतो, दिग्विजय कुमार की घटना के दिन ही मौत हो गयी, जबकि चौथे जवान की मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान मौत हो गई थी. नेशनल हाइवे पर इस हादसे के बाद भी एनएचएआइ ने सबक नहीं ली और गड्ढों की मरम्मती का कार्य नहीं कराया गया. तिमाही सड़क सुरक्षा समिति की मीटिंग में भी इससे संबंधित रिपोर्ट पुलिस की ओर से सौंपी गयी, लेकिन गड्ढों को नहीं भरा गया, जिससे एक और हादसा हुआ. महिला दरोगा और ड्राइवर की मौत हो गई.

2024-07-10T20:36:57Z dg43tfdfdgfd